February 01, 2018

महिलाएं और कैंसर

महिलाओं में कैंसर के अधिकतर मामले

महिलाओं में कैंसर के अधिकतर मामले गर्भाशय ग्रीवा या सर्वाइकल कैंसर से संबंधित होते हैं इसके बाद उनमें चेतन या ब्रेस्ट कैंसर के मामले कहीं ज्यादा सामने आते हैं।

http://latestnews24hour.in/gau-mata-latest-haryanvi-heart-touching-song-pradeep-sonu-surender-romio-sanju-kaithal/

महिलाओं में कैंसर के अधिकतर मामले


सर्वाइकल कैंसर:-


सर्वाइकल कैंसर का सामान्य करण ह्यूमन पैपिलोमा वायरस को माना जाता है। इस कैंसर में शारीरिक संपर्क के दौरान पीड़ित महिला को अत्यधिक दर्द होता है और प्रजनन अंग से रक्त स्त्राव भी हो सकता है। अगर युवा विवाहित महिलाएं स्त्री रोग विशेषज्ञ के परामर्श पर एचपीवी वैक्सीन लगवा लेती हैं। तो सर्वाइकल कैंसर की रोकथाम की जा सकती है। युवा विवाहित महिलाओं को स्त्री रोग विशेषज्ञ से परामर्श पर समय समय पर सीनियर जांच अवश्य करनी चाहिए अगर पैप स्‍मियर जांच रिपोर्ट असामान्य आती है। तो फिर कापूस कॉपी जांच जरूरी करानी चाहिए।
http://latestnews24hour.in/watch-latest-haryanvi-song-khali-bottel-jk-dhakla-nikhil-gaur-surender-romio/

महिलाओं में कैंसर के अधिकतर मामले स्‍तन कैंसर      

स्तन कैंसर


स्तन कैंसर तब शुरू होता है। जब स्तन में कोशिकाएं अनियंत्रित रूप से वृद्धि करने लगती हैं यह कोशिकाएं आमतौर पर एक ट्यूमर बना लेते हैं हालांकि यह कैंसर अधिकतर महिलाओं में होता है लेकिन यह पुरुषों में भी हो सकता है गौरतलब है कि महिलाओं के सपनों में होने वाली हर गांठ कैंसर नहीं होती इसीलिए अगर किसी महिला को गांठ श्री का कुछ महसूस हो तो उसे इस बारे में विशेषज्ञ डॉक्टर से संपर्क कर मैमोग्राफी नामक जांच करानी चाहिए।

इलाज कैसे करें

स्तन कैंसर के इलाज के लिए कई विकल्प उपलब्ध है। उपलब्ध इलाज में सर्जरी कीमोथैरेपी हारमोनल थेरेपी बायोलॉजिकल थेरेपी रेडिएशन और ब्रैस्ट कंजूरिंग सर्जरी शामिल है। अधिकांश मामलों में कैंसर के इलाज की विभिन्न विधियों का इस्तेमाल किया जाता है। ब्रेस्ट कंजूरिंग सर्जरी का प्रमुख उद्देश्य जहां तक संभव हो पीड़ित महिला के सतन को बरकरार रखना है। सर्जरी कर स्तनों को हटाना नहीं है इस सर्जरी के तहत इलाज की विभिन्न विधियों का इस्तेमाल किया जाता है।

No comments:

Post a Comment